दिल्ली के स्कूल में छात्र और शिक्षक कोरोना से ग्रस्त, इसी महीने शुरू होना है बोर्ड परीक्षा का सत्र

0
139
सांकेतिक तस्वीर (आईएएनएस)
The Hindi Post

नई दिल्ली | दिल्ली के एक प्राइवेट स्कूल के एक छात्र और एक शिक्षक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद प्रभावित छात्र के सभी सहपाठियों को घर भेज दिया गया है। इस बीच अच्छी बात यह है कि स्कूल के किसी भी छात्र या शिक्षक की हालत चिंताजनक नहीं है। इससे पहले दिल्ली से सटे नोएडा और गाजियाबाद के भी कई स्कूलों में कोरोना के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। गौरतलब है कि बुधवार शाम दिल्ली में 299 नए कोविड मामले सामने आए थे।

आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी ने दिल्ली के स्कूल में मिले कोरोनावायरस पर कहा, दिल्ली के एक स्कूल में 1 शिक्षक एवं एक छात्र के कोरोनावायरस से पीड़ित होने की खबर है। छात्र के कोरोना पॉजिटिव मिलने के उपरांत उसकी कक्षा के अन्य छात्रों को घर भेज दिया गया है। हम स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

गौरतलब है कि 4 अप्रैल से ही दिल्ली के अधिकांश स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र की ऑफलाइन कक्षाएं शुरू हुई हैं। लगभग 2 वर्ष के लंबे अंतराल के बाद नियमित तौर पर शुरू हुए स्कूलों में इस प्रकार कोरोनावायरस के मामले मिलने से अब स्कूलों के साथ-साथ छात्रों के परिजन भी चिंतित हैं।

उधर सीबीएसई बोर्ड की दसवीं और बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं भी 26 अप्रैल से शुरू होने जा रही हैं। हालांकि कोरोना के कारण कई राज्यों में स्कूल अभी कुछ दिन पहले ही खुले हैं। राजधानी दिल्ली में भी 10 दिन पहले ही 10वीं एवं 12वीं समेत अन्य कक्षाएं शुरू की गई हैं। ऐसे में यदि फिर से स्कूल बंद होते हैं तो छात्रों को परीक्षाओं की तैयारी करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। दिल्ली के स्कूल अब छात्रों की इसी समस्या का समाधान ढूंढने में जुट गए हैं।

शिक्षा निदेशालय आगामी बोर्ड परीक्षाओं को लेकर तैयारी कर रहा है। सीबीएसई कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं अप्रैल अंत में करवाएगा। इसको लेकर दिल्ली के सरकारी स्कूलों में तैयारियां तेज कर दी हैं। इस बाबत शिक्षा निदेशक की अध्यक्षता में कक्षाओं के बेहतर संचालन और बोर्ड परीक्षाओं की तैयारियों को लेकर सभी स्कूल प्रमुखों के साथ एक मीटिंग का आयोजन किया गया था।

विज्ञापन
विज्ञापन

कोविड के कारण स्कूल लंबे समय तक बंद रहे जिससे शिक्षा पर गंभीर प्रभाव पड़ा। देश में डिजिटल विभाजन के कारण छात्रों का एक वर्ग पूरी तरह से नियमित शिक्षा से अलग-थलग हो गया था। यहां तक कि जो लोग वर्चुअल कक्षाओं में लॉग इन करने में सक्षम थे, उन्हें मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का सामना करना पड़ा क्योंकि वे अपने, स्कूल शिक्षक लाइब्रेरी व दोस्तों से कटे हुए थे।

हालांकि अब लंबे अंतराल के उपरांत स्कूल खुलने पर स्कूल में कोरोना के मामले सामने आने लगे हैं। दिल्ली से पहले नोएडा के चार स्कूलों के 23 स्कूली छात्रों कोरोना पॉजिटिव मिले है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुनील कुमार शर्मा का कहना है कि गाजियाबाद में एक निजी स्कूल को एहतियात के तौर पर तीन दिनों के लिए बंद कर दिया गया, क्योंकि वहां के दो छात्र कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

आईएएनएस

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post