डब्ल्यूएचओ मंकीपॉक्स को घोषित कर सकता है वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल

0
86
विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ट्रेडोस घेब्रेयसिस (फाइल फोटो: आईएएनएस)
The Hindi Post

नई दिल्ली | विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा मंकीपॉक्स को वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किए जाने की संभावना है। इस वायरस ने अब तक स्थानिक और गैर-स्थानिक दोनों देशों में 2,821 लोगों को प्रभावित किया है। वैश्विक स्वास्थ्य निकाय द्वारा उच्चतम स्तर की चेतावनी इस समय केवल कोविड-19 महामारी, पोलियो और इबोला पर लागू है।

संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी यह आकलन करने के लिए अगले गुरुवार को एक आपातकालीन समिति की बैठक बुलाएगी कि क्या हाल ही में मंकीपॉक्स का प्रकोप अंतरराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल है।

डब्ल्यूएचओ ने 8 जून तक 28 देशों में ‘गैर-स्थानिक’ मामलों की जानकारी दी थी। विशेष रूप से यूरोप, उत्तरी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में मंकीपॉक्स के कुल 1,285 मामलों की सूचना दी गई।

अफ्रीकी देशों में दर्ज किये गए 1,536 संदिग्ध मामले 

कैमरून, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, कांगो और लाइबेरिया सहित लगभग आठ अफ्रीकी देशों, जहां मंकीपॉक्स स्थानिक है, में 1,536 संदिग्ध मामले और 59 पुष्ट मामले सामने आए।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम घेबियस (Dr. Tedros Adhanom Ghebreyesus) के अनुसार, प्रतिक्रिया को तेज करने का समय आ गया है, क्योंकि वायरस असामान्य रूप से व्यवहार कर रहा है।

डब्ल्यूएचओ के अफ्रीका के आपात निदेशक इब्राहिमा सोस फॉल ने कहा, “हम तब तक इंतजार नहीं करना चाहते, जब तक कि स्थिति नियंत्रण से बाहर न हो जाए।”

 ‘मंकीपॉक्स कोविड की तरह संक्रामक या खतरनाक नहीं है!’

उन्होंने नोट किया कि हालांकि मंकीपॉक्स कोविड की तरह संक्रामक या खतरनाक नहीं है पर इस बारे में स्पष्ट मार्गदर्शन की जरूरत है कि मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति को कैसे अलग किया जाए, जोखिम वाले लोगों की रक्षा कैसे की जाए और बेहतर टेस्ट और ट्रेसिंग के बारे में अधिक स्पष्ट सलाह दी जानी चाहिए।

डब्ल्यूएचओ ने मंकीपॉक्स के टीकाकरण पर भी नए दिशानिर्देश जारी किए हैं, जिसमें मंकीपॉक्स के लिए चेचक के टीके के उपयोग की सिफारिशें शामिल हैं।

स्वास्थ्य निकाय ने एक बयान में कहा, “मंकीपॉक्स के लिए वैश्विक प्रकोप प्रतिक्रिया का लक्ष्य प्रकोप को नियंत्रित करना और बीमारी के आगे प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों का प्रभावी ढंग से उपयोग करना है। टीकों का विवेकपूर्ण उपयोग इस प्रतिक्रिया का समर्थन कर सकता है।”

हालांकि, इसने कहा कि इस समय मंकीपॉक्स के लिए बड़े पैमाने पर टीकाकरण की जरूरत नहीं है और न ही इसकी सिफारिश की जाती है।

आईएएनएस

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post