‘द वेंटीलेटर प्रोजेक्ट’ नामक पुस्तक का आईआईटी-कानपुर में हुआ विमोचन

0
210
फोटो: इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी - कानपुर
The Hindi Post

कानपुर: ‘द वेंटीलेटर प्रोजेक्ट’ आईआईटी कानपुर में एक विश्वस्तरीय वेंटिलेटर के डिजाइन और निर्माण की एक कहानी है, जिसे आज बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स, आई आई टी कानपुर के चेयरमैन और पूर्व इसरो अध्यक्ष डॉ० के० राधाकृष्णन ने एक समारोह में जारी किया ।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ’ने अपनी शुभकामनाएँ प्रेषित कीं और आईआईटी कानपुर की टीम, टास्कफोर्स और लेखको को आत्मनिर्भर भारत की अविश्वसनीय कहानी के प्रलेखन पर बधाई दी l

पुस्तक एक शानदार वसीयतनामा है, जो कि दो शानदार भारतीयों के सहयोग और प्रयासों पर आधारित है, जो भारत में कोविड-19 महामारी के चलते केवल 90 दिनों में एक विश्व स्तरीय वेंटिलेटर बनाने के लिए एक साथ आए। निखिल कुरेले और हर्षित राठौर ने स्वायत्त जलविहीन सौर पैनल सफाई रोबोट बनाने के लिए एक आईआईटी कानपुर इनक्यूबेट कंपनी नोका रोबोटिक्स की स्थापना की थी। जब वेंटिलेटर की कमी के कारण महामारी के दौरान रोगियों की मौत हो रही थीं, तो उन्होंने इस समस्या से निजात पाने के लिए कुछ करने का फैसला किया, और केवल तीन महीनों में एक स्केलेबल विश्व स्तरीय वेंटिलेटर का डिजाइन, विकास और निर्माण किया।

निखिल कुरेले और हर्षित राठौर ने कभी वेंटिलेटर नहीं देखा था, जिसे उनहोंने अकेले ही बनाया। लॉकडाउन के समय प्रतिबंधित आवागमन की वजह से, स्वास्थ्य सेवाओं के बुनियादी ढांचे तक पहुंच भी सीमित थी। महामारी के बोझ तले वैश्विक अर्थव्यवस्था चरमरा रही थी। घड़ी टिक कर चल रही थी और सैकड़ों लोगों की जान दांव पर लगी हुई थी। लॉकडाउन प्रतिबंधों को दूर करने और वेंटिलेटर पर काम करने के लिए दोनों ने दैनिक जूम कॉल पर मुलाकात की और व्हाट्सएप टेक्स्ट का आदान-प्रदान किया। आई आई टी कानपुर कंसोर्टियम ने भारत के कोविड -19 लॉकडाउन के दौरान एक विश्व स्तरीय उत्पाद कैसे बनाया ये कहानी अब “द वेंटीलेटर प्रोजेक्ट” के रूप में श्रीकांत शास्त्री और अमिताभ बंद्योपाध्याय द्वारा लिखी गई पुस्तक के रोमांचक पन्नों में कैद है।

Nikhil Kurele
निखिल कुरेले और हर्षित राठौर अपनी टीम के अन्य सदस्यों के साथ

अध्यक्ष BoG आई आई टी कानपुर और पूर्व ISRO अध्यक्ष डॉ० कोप्पिलिल राधाकृष्णन ने, आत्मानिभर भारत के इस अनदेखी मामले के अध्ययन की सराहना करते हुए,कहा कि “स्वास्थ्य सुरक्षा के संबंध में, भारत में 80% चिकित्सा उपकरण आयात किए जाते हैं। आईआईटी कानपुर सफलतापूर्वक एक विश्वसनीय, सुरक्षित और एक अच्छी गुणवत्ता वाला स्वदेशी उत्पाद विकसित करने में कामयाब रहा जिसने शिक्षाविदों और स्वास्थ्य चिकित्सकों दोनों द्वारा समान रूप से विश्वसनीय जीवन बचाने में मदद की। वेंटीलेटर प्रोजेक्ट केवल उद्यमियों या भारत के स्टार्ट-अप इको-सिस्टम के लिए ही नहीं, बल्कि हमारे प्रमुख शिक्षण संस्थानों के लिए और उनकी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए आत्मनिर्भर आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए एक केस-स्टडी है। “

अध्यक्ष BoG आई आई टी कानपुर और पूर्व ISRO अध्यक्ष डॉ० कोप्पिलिल राधाकृष्णन
अध्यक्ष BoG आई आई टी कानपुर और पूर्व ISRO अध्यक्ष डॉ० कोप्पिलिल राधाकृष्णन

दोनों ने 20 उद्योग जगत के दिग्गजों के साथ सहयोग किया और अकादमिक क्षेत्र, नीति-निर्माण, चिकित्सा और विनिर्माण क्षेत्र से बेजोड़ अनुभव प्राप्त किया। उनके असाधारण उत्साह और तकनीकी प्रतिभा से प्रेरित दो युवा उद्यमी और अभिनव दिमाग ने अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए इन उद्योग के दिग्गजों के साथ काम किया और भारत में डिजाइन और विकसित किए गए और भारत में निर्मित वेंटिलेटर को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ के बराबर बनाया।

प्रो० अभय करंदीकर, निदेशक, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर, ने कहा, कि “यह हमारे लिए गर्व का क्षण था, जब एक राष्ट्रीय लॉकडाउन के बीच में, दो युवा नवप्रवर्तनकर्ताओं ने हमें बताया कि वे एक जटिल उपकरण विकसित करना चाहते थे जो अन्यथा आयात किया जाता है। हमें पता था कि यह एक ऐसी परियोजना थी जो हर संभव समर्थन की पात्र थी। हमने अपने सभी संसाधनों को सहयोग करने और यह सुनिश्चित करने के लिए बढ़ाया कि वेंटिलेटर परियोजना बिना किसी बाधा के आगे बढ़े। परियोजना की सफलता उस समर्पण का प्रदर्शन है जो हम आईआईटी कानपुर में राष्ट्र के प्रति दिखाते हैं जिसने हमें बहुत कुछ दिया है। हमारे पूर्व छात्र, युवा और बुजुर्ग, हमें जीवन के सभी क्षेत्रों में गर्व करते हैं। वेंटिलेटर प्रोजेक्ट एक ऐसा उदाहरण है जो आईआईटी कानपुर और भारत को विनिर्माण और व्यवसाय दोनों में वैश्विक नवाचार के नक्शे पर रखता है।

परियोजना की सफलता उस समर्पण का प्रदर्शन है जो हम आईआईटी कानपुर में राष्ट्र के प्रति दिखाते हैं जिसने हमें बहुत कुछ दिया है। हमारे पूर्व छात्र, युवा और बुजुर्ग हमें जीवन के सभी क्षेत्रों में गौवान्वित करते हैं। वेंटिलेटर प्रोजेक्ट एक ऐसा उदाहरण है जो आईआईटी कानपुर और भारत को विनिर्माण और व्यवसाय दोनों में वैश्विक नवाचार के नक्शे पर रखता है।
आई आई टी कानपुर कंसोर्टियम ने भारत के कोविड -19 लॉकडाउन के दौरान एक विश्व स्तरीय उत्पाद कैसे बनाया ये कहानी श्रीकांत शास्त्री और अमिताभ बंद्योपाध्याय द्वारा लिखी गई पुस्तक “द वेंटीलेटर प्रोजेक्ट” के रूप में ई-कॉमर्स साइटों और सभी प्रमुख बुकस्टोर्स पर उपलब्ध है।

 

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post