NEET परीक्षा: पहले बेटे ने की आत्महत्या, फिर मिली पिता की लाश

0
256
सांकेतिक तस्वीर (आईएएनएस)
The Hindi Post

चेन्नई | नीट परीक्षा में असफल होने के कारण एक अभ्यर्थी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. बेटे के जान दे देने के गम उसके पिता ने भी रविवार को आत्महत्या कर ली.

इस मामले में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) के खिलाफ जमकर हमला बोला है.

जगदीश्वरन (19) नीट की तैयारी के लिए कोचिंग कर रहा था. वह बार-बार असफल होने का सदमा वह बर्दाश्‍त नहीं कर सका. उसने शनिवार को चेन्नई के क्रोमपेट स्थित आवास पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. बेटे के गम में पिता ने भी रविवार को अपनी जान दे दी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने एक सोशल मीडिया पोस्ट में कहा कि नीट परीक्षा को हटाया जाना चाहिए. किसी भी स्थिति में किसी भी छात्र को अपनी जान नहीं देनी चाहिए.

मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि वह छात्र जगदीश्वरन और उसके पिता सेल्वासेकर की आत्महत्या की खबर सुनकर स्तब्ध है. नीट पास नहीं कर पाने के कारण मेधावी छात्र की मौत दुखद है.

उन्होंने यह भी कहा कि छात्रों के लक्ष्य में बाधक नीट को हटाया जा सकता है. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि राज्य सरकार नीट पर प्रतिबंध लगाने की बाधाओं को दूर करने की दिशा में कानूनी कदम उठा रही है.

सीएम ने कहा कि कुछ महीनों में राजनीतिक बदलाव आएगा और उसके बाद नीट द्वारा खड़ी की गई बाधाएं हट जाएंगी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि जगदीश्वरन और उनके पिता सेल्वासेकर की मौत एनईईटी की वेदी पर आखिरी आत्महत्या होगी.

आईएएनएस


The Hindi Post