कानपुर में डॉक्टर ने अपनी पत्नी, बेटे और बेटी की बेरहमी से हत्या की, डायरी में लिखा ‘कोविड ओमिक्रॉन अब सभी को मार डालेगा’

0
334
पुलिस अधिकारी मौके पर जांच करते हुए
The Hindi Post

उत्तर प्रदेश के कानपुर से शुक्रवार शाम को एक विचलित करने वाली घटना सामने आई जब एक डाक्टर, जो एक प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में फोरेंसिक साइंस विभाग के विभागाध्यक्ष है, ने अपनी शिक्षक पत्नी, बेटे और बेटी की हत्या कर दी और फिर फरार हो गए। पुलिस अब डॉक्टर की तलाश कर रही है।

यह घटना, उद्योगिक नगरी के कल्याणपुर थाना अंतर्गत इंदिरा नगर के दिविनिटी होम्स अपार्टमेंट में हुई। डॉक्टर सुशील ने हत्या करने के बाद अपने भाई को व्हाट्सएप्प पर सूचना देते हुए कहा कि वह पुलिस को इस बारे में (हत्या करने के बारे में) सूचित कर दे।

डॉक्टर सुशील दिविनिटी होम्स अपार्टमेंट्स की पांचवी मंज़िल पर रहते है। उनकी पत्नी शिवराजपुर में शिक्षिका थी।

विज्ञापन
विज्ञापन

मृतकों की पहचान, डॉ सुशील की पत्नी, चंद्रप्रभा, बेटा शिखर और बेटी खुशी के रुप में हुई। घटना से अपार्टमेंट और इलाके में सनसनी फैल गई।

आरोपी डॉक्टर ने अवसाद में ऐसा कदम उठाने की बात कही। जब घर का दरवाज़ा तोड़ा गया तो शव अलग-अलग कमरों में पड़े मिले।

पुलिस अधिकारी, कमिश्नर असीम अरुण के नेतृत्व में मौके पर पहुंच कर जांच में जुट गए। फोरेंसिक एक्सपर्ट और डॉग स्क्वाड भी मौके पर आ गए।

पुलिस को मौके से एक पत्र मिला जिसमे डाक्टर ने अवसाद के चलते हत्या करने की बात कही है।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि, “शुक्रवार शाम 5:32 बजे, प्रोफेसर सुशील ने अपने भाई डॉ सुनील को व्हाट्सएप संदेश भेजा कि “सुनील पुलिस को इन्फॉर्म करो डिप्रेशन में मैंने…..।”

विज्ञापन
विज्ञापन

डॉ सुशील द्वारा सूचित किये जाने के बाद उनके भाई डॉ सुनील घटनास्थल पर पहुंचे। इस मैसेज पर डॉ सुनील मौके पर पहुंचे और दरवाज़ा तोडा। उन्होंने देखा की परिवार के तीन सदस्य मृत पड़े है उनके द्वारा पुलिस को सूचित किया गया।

पुलिस ने बताया कि मौके से उनको एक डायरी मिली है जिसमें डॉक्टर सुशील कुमार द्वारा परिवार की हत्या वह अन्य बातें लिखी है।

परिवार के अनुसार डॉ सुशील कुछ समय से डिप्रेशन में थे। पुलिस अब डॉ सुशील की तलाश कर रही है।

पुलिस ने कहा कि डॉ सुनील ने अपने भाई को व्हाट्सएप मैसेज किया था जिसमे लिखा कि उन्होंने इस घटना को डिप्रेशन में अंजाम दिया। पुलिस के अनुसार मामले में विवेचना चल रही है और जल्द ही डॉक्टर सुशील को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

 

घर से मिले नोट में यह लिखा हुआ था 

अब और कोविड नहीं, ये कोविड ओमिक्रॉन अब सभी को मार डालेगा। अब और लाशें नहीं गिननी हैं। अपनी लापरवाही के चलते करियर के उस मुकाम पर फंस गया हूं। जहां से निकलना असंभव हैं। मेरा कोई भविष्य नहीं है। मैं अपने होश-ओ-हवास में अपने परिवार को खत्म करके खुद को खत्म कर रहा हूं। इसका जिम्मेदार और कोई नहीं। मैं लाइलाज बीमारी से ग्रस्त हो गया हूं। आगे का भविष्य कुछ भी नजर नहीं आ रहा है। इसके अलावा मेरे पास कोई और चारा नहीं है। मैं अपने परिवार को कष्ट में नहीं छोड़ सकता। सभी को मुक्ति के मार्ग में छोड़कर जा रहा हूं। सारे कष्टों को एक ही पल में दूर कर रहा हूं। अपने पीछे मैं किसी को कष्ट में नहीं देख सकता। मेरी आत्मा मुझे कभी भी माफ नहीं करेगी। आंखों की लाइलाज बीमारी की वजह से मुझे इस तरह का कदम उठाना पड़ रहा है। पढ़ाना मेरा पेशा है। जब मेरी आंख ही नहीं रहेगी तो मैं क्या करूंगा’।

अलविदा

हिंदी पोस्ट वेब डेस्क


The Hindi Post