7 साल में 30 बच्चों को बनाया शिकार, सीरियल किलर को कोर्ट ने सुनाई उम्र कैद की सजा

0
321
प्रतीकात्मक फोटो
The Hindi Post

नई दिल्ली | दिल्ली की रोहिणी अदालत ने गुरुवार को सीरियल किलर रवींद्र कुमार को उम्रकैद की सजा सुना दी. रविंद्र ने कथित तौर पर 30 से अधिक नाबालिग बच्चों की हत्या की है. अदालत ने अपहरण, यौन उत्पीड़न और नाबालिग की हत्या से संबंधित एक मामले में कुमार उम्रकैद की सजा सुनाई है.

न्यायाधीश ने 6 साल की बच्ची के अपहरण, यौन उत्पीड़न और हत्या से संबंधित इस विशेष मामले में सजा का आदेश सुनाया. न्यायाधीश ने 20 मई को सजा पर फैसला सुरक्षित रख लिया था. आज (25 मई) अदालत ने आरोपी को उम्रकैद की सजा सुनाई दी.

साल 2008 और 2015 के बीच रविंद्र ने कथित तौर पर 30 से अधिक नाबालिग बच्चों की हत्या की थी. रविंद्र को 19 जुलाई 2015 को गिरफ्तार किया गया था. वह 6 से 12 साल के उम्र के बच्चों को निशाना बनाता था.

रविंद्र 18 साल की उम्र में नौकरी की तलाश में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली आया था. हालांकि वह सीरियल किलर बन गया.

जांच के दौरान रविंद्र कुमार ने पुलिस को बताया था कि वह बच्चों की तलाश में लगभग 40 KM तक पैदल चला जाता था. वो गरीब बच्चों को निशाना बनाता था. रविंद्र पहले बच्चों चॉकलेट का लालच देता था और फिर उनका अपहरण कर लेता था. वह उत्तर प्रदेश के कासगंज का मूल निवासी था.

बेगमपुर पुलिस ने 2015 में रवींद्र कुमार को छह साल की बच्ची के अपहरण, हत्या और यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया था.

दिल्ली पुलिस ने कई कैमरों की सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद उसे रोहिणी इलाके के सुखबीर नगर बस स्टैंड से गिरफ्तार किया था.

रवींद्र ने दो साल के बच्चे को भी नहीं बक्शा था.

हिंदी पोस्ट वेब डेस्क/आईएएनएस


The Hindi Post