सांप्रदायिक हिंसा के बाद 200 लोगों के खिलाफ केस दर्ज, 40 हिरासत में

The Hindi Post

जयपुर | राजस्थान पुलिस ने जोधपुर में पत्थरबाजी और आगजनी के आरोप में करीब 40 लोगों को हिरासत में लिया है. अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि हिंसाग्रस्त इलाके में अभी शांति है. वहां ड्रोन से नजर रखी जा रही है.

जोधपुर के सूरसागर इलाके में शुक्रवार देर रात हिंसा भड़क उठी थी. इस मामले में करीब 200 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

किसी प्रकार की अप्रिय घटना को रोकने के लिए शनिवार को सूरसागर इलाके में पुलिस बल की भारी तैनाती की गई है.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी निशांत भारद्वाज ने बताया कि दो दिन पहले ईदगाह में दुकान बनाने को लेकर विवाद हुआ था. कुछ लोग वहां दुकान बनाने के खिलाफ थे. इसी बात पर दो समुदाय आमने-सामने आ गए. हालांकि पुलिस ने बीच-बचाव कर मामला शांत कर दिया था.

शुक्रवार को जब एक संप्रदाय ने वहां गेट बनते देखा को उसने विरोध शुरू कर दिया. वे चाहते थे कि निर्माण बंद किया जाए जबकि दूसरे संप्रदाय के लोगों को यह स्वीकार नहीं था. जल्द ही विवाद शुरू हो गया जो देखते ही देखते झड़प में बदल गया.

तीन घंटे तक झड़प जारी रही. अंत में रात एक बजे पुलिस ने लाठीचार्ज किया. बाद में पुलिस ने हिंसा में शामिल लोगों की पहचान की और उन्हें हिरासत में ले लिया.

शनिवार सुबह भी पुलिस की पेट्रोलिंग जारी रही. मौके पर एंबुलेंस, दमकल और अतिरिक्त पुलिस बल को तैनात किया गया है.

जोधपुर के पुलिस आयुक्त राजेंद्र सिंह ने कहा कि सूरसागर में अब स्थिति नियंत्रण में है.

उन्होंने कहा, “पुलिस की टीम इलाके में लगातार गस्त कर रही है. डीसीपी आलोक श्रीवास्तव और शरद चौधरी पूरी परिस्थिति पर नजर रखे हुए हैं. ड्रोन के माध्यम से भी पुलिस निगरानी कर रही है. कल रात से ही पुलिस की टुकड़ियां विभिन्न इलाकों में मार्च कर रही हैं.”

IANS

 


The Hindi Post
error: Content is protected !!