10 साल के छात्र ने 77 फीसद अंक के साथ पास की 10वीं की बोर्ड परीक्षा, परिवार में खुशी की लहर

0
184
फोटो: IANS
The Hindi Post

ग्रेटर नोएडा | मंगलवार को यूपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित हुए. नतीजों की घोषणा के बाद से ही सभी तरफ खुशी की लहर है. जो छात्र पास हुए है उनमें एक नाम अयान गुप्ता का भी है. पर सबसे खास बात यह है कि अयान केवल 10 साल का है. अयान ग्रेटर नॉएडा का रहने वाला है.

उसने UP बोर्ड परीक्षा में 77 फीसदी अंक प्राप्त किए है. अयान की इस उपलब्धि से उसका परिवार गदगद है. दरअसल, अयान ने इतिहास रच दिया है.

आइए आपको बताते है कि ये सब हुआ कैसे. बात कोरोना काम की है. उस समय सभी स्कूल बंद हो गए थे और बच्चे अपने घर पर रहकर पढाई कर रहे थे. उस समय अयान दूसरी कक्षा में ग्रेटर नोएडा के ग्रेटर वैली स्कूल में पढता था. अयान पढ़ने में पहले से ही काफी होनहार है. जो उसको स्कूल में पढ़ाया जाता था वो उससे भी काफी आगे तक की पढ़ाई कर लेता था.

इसलिए उसके घरवालों को आईडिया आया कि अयान को घर पर ही होम क्लासेस दिलवाई जाए. जिसके बाद अयान को सातवीं, आठवीं और नौवीं की होम क्लासेस दिलवाई गई. उसने अच्छा परफॉर्म किया. कोरोना काल खत्म होने के बाद अयान को सीबीएसई स्कूल में नौवीं कक्षा में डालने के लिए मन बनाया गया लेकिन किसी भी सीबीएसई स्कूल में आयान को दाखिला नहीं मिला. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उसकी उम्र काफी कम थी.

इसके बाद अयान को बुलंदशहर के शिवकुमार अग्रवाल जनता इंटर कॉलेज में 2022 में दसवीं कक्षा में दाखिला मिल गया. मंगलवार को यूपी बोर्ड के दसवीं के रिजल्ट में अयान ने 77 प्रतिशत अंक लाकर इतिहास रच दिया.

अयान ने बताया कि 2020 में लॉकडाउन के दौरान उसका अपनी रूटीन पढ़ाई में मन नहीं लगता था. इसलिए वह आगे की पढ़ाई करने लगा. ऐसा करने से उसको किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई. वो हिंदी में थोड़ा कमजोर था. उसने हिंदी में भी काफी मेहनत की. इसके बाद 2022 में दसवीं कक्षा में शिवकुमार अग्रवाल जनता इंटर कॉलेज में दाखिला लिया.

उसने बताया कि उसे थोड़ा डर जरूर लगा था एग्जाम के समय लेकिन उसने सारे एग्जाम अच्छे से किए और उसकी मेहनत सफल रही.

अयान के पिता मनोज कुमार ग्रेटर नोएडा में सीए हैं. उन्होंने बताया कि 2020 में जब लॉकडाउन लगा था तब अयान अपनी कक्षा को छोड़कर आगे की क्लासेज की पढ़ाई करने लगा. उन्होंने कहा कि इसके बाद उन्हें लगा कि अयान पर थोड़ी मेहनत करने की जरूरत है. उन्होंने उसकी ऑनलाइन कोचिंग शुरू करा दी. इसके बाद देखा गया कि क्या अयान को पहले पढ़ी हुई सभी किताबें याद हैं. इस पर पता चला कि अयान को सब कुछ याद था. इससे अयान के परिवार काफी खुश हो गया. उनको अयान के टैलेंट का पता चला.

फिलहाल 10 वर्ष की आयु में बच्चे के पास होने पर पूरे परिवार में खुशी का माहौल है और लोग घर पर बधाई देने के लिए आ रहे है.

आईएएनएस


The Hindi Post