कोहली ने शमी को गाली देने वालों पर साधा निशाना, कहा- किसी के धर्म पर हमला निराशापूर्ण

0
223
फोटो: इंस्टाग्राम
The Hindi Post

दुबई | भारत के कप्तान विराट कोहली ने आईसीसी पुरुष टी20 विश्व कप के पहले मैच में पाकिस्तान द्वारा भारत को 10 विकेट से हराए जाने के बाद सोशल मीडिया पर तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को मिली गाली की कड़ी आलोचना की है। यह बताते हुए कि किसी के धर्म पर हमला करना निराशापूर्ण और ‘दयनीय’ है, कोहली ने टिप्पणी की कि किसी के साथ उनके धर्म को लेकर भेदभाव करना एक ऐसी चीज है, जिसके बारे में उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था।

भारत और पाकिस्तान के बीच मैच समाप्त होने के तुरंत बाद शमी को इंस्टाग्राम और ट्विटर पर ट्रोलिंग और गालियों का शिकार होना पड़ा, उन्होंने मैच में 3.5 ओवर में 43 रन दिए। शमी को सोशल मीडिया पर मिली गालियों की कई मौजूदा और पूर्व क्रिकेटरों ने निंदा की।

कोहली ने शनिवार को प्री-मैच प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “मेरे लिए किसी के धर्म पर हमला करना सबसे दयनीय बात है। हर किसी को अपनी राय व्यक्त करने का अधिकार है, लेकिन व्यक्तिगत रूप से मैंने कभी भी भेदभाव करने के बारे में नहीं सोचा । धर्म हर इंसान के लिए एक बहुत ही व्यक्तिगत और पवित्र चीज है और इसे वहीं छोड़ दिया जाना चाहिए। लोग अपनी कुंठा निकालते हैं, क्योंकि उन्हें इस बात की कोई समझ नहीं है कि हम व्यक्तिगत रूप से क्या करते हैं और हम मैदान पर कितना प्रयास करते हैं।

उन्होंने कहा, “उन्हें इस तथ्य की कोई समझ नहीं है कि मोहम्मद शमी ने पिछले कुछ वर्षो में भारत को कई मैच जिताए हैं और वह जसप्रीत बुमराह के साथ हमारे प्राथमिक गेंदबाज रहे हैं। अगर लोग देश के लिए उनके जुनून को नजरअंदाज कर सकते हैं, तो में ईमानदारी से कहु कि मैं अपने जीवन का एक मिनट भी उन लोगों पर ध्यान देने के लिए बर्बाद नहीं करना चाहता।

कोहली ने कहा, “हम उनके साथ पूरी तरह से खड़े हैं। हम उन्हें 200 फीसदी समर्थन कर रहे हैं। वे सभी लोग, जिन्होंने हमला किया है, वे चाहें तो और अधिक बल के साथ आ सकते हैं। टीम के भीतर हमारा भाईचारा और दोस्ती, कुछ भी नहीं हिल सकता। मैं आपको गारंटी दे सकता हूं कि टीम के कप्तान के रूप में हमने एक ऐसी संस्कृति का निर्माण किया है, जहां ये चीजें इस माहौल में घुसपैठ नहीं करेंगी । यह मेरी तरफ से पूरी गारंटी है।”

विज्ञापन
विज्ञापन

कोहली ने ट्रोल करने वालों को ‘रीढ़विहीन लोगों का झुंड’ करार दिया। एक अच्छा कारण है कि हम मैदान पर खेल रहे हैं और सोशल मीडिया पर कुछ रीढ़विहीन लोगों का समूह है, जो वास्तव में किसी व्यक्ति से व्यक्तिगत रूप से बात करने का साहस नहीं रखते हैं। हमारी संस्थाओं के पीछे सोशल मीडिया के माध्यम से हमारे लोगों का मजाक उड़ाते हैं। यह आज की दुनिया में मनोरंजन का एक स्रोत बन गया है, जो बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है। यह वस्तुत: मानवीय क्षमता का निम्नतम स्तर है। मैं इन लोगों को इसी तरह देखता हूं।

उन्होंने कहा, “हम व्यक्तिगत रूप से समझते हैं कि हम मैदान पर क्या करना चाहते हैं और हमारे पास चरित्र और मानसिक दृढ़ता की ताकत है। मगर उनमें ऐसा करने का साहस नहीं है। इसलिए, मैं चीजों को इसी तरह देखता हूं। यह सारा नाटक जो किया गया है, वह विशुद्ध रूप से लोगों की निराशा और उनके आत्मविश्वास की कमी, करुणा पर आधारित है। वे शायद सोचते हैं कि लोगों के पीछे जाना बहुत मनोरंजक है। इसलिए, हम एक समूह के रूप में समझते हैं कि हमें कैसे एक साथ रहना चाहिए, व्यक्तियों का समर्थन करना चाहिए और अपनी ताकत पर ध्यान देना चाहिए।”

भारत और न्यूजीलैंड, दोनों पाकिस्तान से अपने शुरुआती मैच हारने के बाद टूर्नामेंट के अपने पहले दो अंक हासिल करना चाहते हैं और ग्रुप 2 से सेमीफाइनल में जगह बनाने की दौड़ में हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

आईएएनएस

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post