अतीक अहमद हत्याकांड के छह आरोपी अभी भी गिरफ्त से दूर, 9 महीने पहले हुई थी अतीक-अशरफ की हत्या

0
147
अतीक अहमद और अशरफ की फाइल फोटो
The Hindi Post

लखनऊ | वकील उमेश पाल, गैंगस्टर से नेता बने अतीक अहमद और उनके भाई अशरफ की हत्याएं इस साल उत्तर प्रदेश के सबसे चर्चित अपराध मामलों में से एक रही हैं.

फरवरी में प्रयागराज में उमेश पाल की हत्या हुई थी, जबकि अप्रैल में उसी शहर में अतीक और अशरफ की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. कई एजेंसियों द्वारा मामलों की जांच करने के बावजूद छह मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की पहुंच से बाहर हैं.

छह वांछित व्यक्तियों में शूटर साबिर, गुड्डु मुस्लिम, अरमान और तीन महिलाएं – शाइस्ता परवीन, जैनब और आयशा नूरी शामिल हैं. सभी पर साजिश रचने का मामला दर्ज किया गया है.

जहां गुड्डू मुस्लिम, अरमान और साबिर के सिर पर 5-5 लाख रुपये का नकद इनाम है, वहीं शाइस्ता परवीन पर भी 50,000 रुपये का इनाम है.

जैनब (मारे गए अशरफ की पत्नी) और आयशा नूरी (अशरफ की बहन) के सिर पर कोई नकद इनाम नहीं है.

बता दें कि 24 फरवरी को, बसपा विधायक राजू पाल हत्याकांड के मुख्य गवाह वकील उमेश पाल की सुलेमसराय इलाके में उनके आवास के बाहर हत्या कर दी गई थी.

हालांकि, पुलिस ने कथित तौर पर गोलीबारी में शामिल असद (अतीक अहमद का बेटा), गुलाम (शूटर), उस्मान उर्फ विजय (शूटर) और अरबाज सहित चार मुख्य आरोपियों को अलग-अलग मुठभेड़ों में मार गिराने का दावा किया है, पर सनसनीखेज गोलीबारी के बाद से पुलिस को अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि गुड्डु मुस्लिम, साबिर और अरमान कहां छुपे हैं. ये तीनों शूटर है.

मामले की जांच में शामिल एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, “शूटरों का पता नहीं चल पाया है क्योंकि वे अब मोबाइल फोन का उपयोग नहीं कर रहे हैं. अगर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते तो उन्हें ट्रैक करने में मदद मिल सकती थी. हम इलेक्ट्रॉनिक निगरानी कर रहे है लेकिन शूटरों ने अपने परिवारों से भी संपर्क नहीं किया है. हमें दिल्ली सहित विभिन्न शहरों में उनकी उपस्थिति की जानकारी मिली थी लेकिन इससे पहले कि हम उन्हें पकड़ पाते, वे भागने में सफल रहे.”

दो मुख्य आरोपी – अरबाज और विजय उर्फ उस्मान क्रमशः 27 फरवरी और 6 मार्च को अलग-अलग मुठभेड़ों में मारे गए थे.

इसके अलावा, यूपी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की एक टीम ने 13 अप्रैल को झांसी में एक मुठभेड़ के दौरान असद (अतीक अहमद का बेटे) और गुलाम दोनों को मार गिराया था. इनके सिर पर 5 लाख रुपये का नकद इनाम था.

15 अप्रैल को, तीन हमलावरों ने प्रयागराज के कॉल्विन अस्पताल के परिसर में गैंगस्टर अतीक अहमद और अशरफ की पुलिस हिरासत में हत्या कर दी थी.

अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि उसने उमेश पाल की हत्या की योजना बनाई थी और फिर शूटरों को भागने में मदद की थी, पुलिस की पहुंच से बाहर है.

पति अतीक की हत्या के बाद वह कब्रिस्तान भी नहीं पहुंची थी. शाइस्ता ने जेल में बंद अपने दो बेटों और दो नाबालिग लड़कों से भी संपर्क नहीं किया है.

जैनब (मारे गए अशरफ की पत्नी) और आयशा नूरी (अशरफ की बहन) का नाम पुलिस की वांछित सूची में शामिल हैं पर उनका भी पता नहीं चल पा रहा है.

दोनों पर उमेश पाल की हत्या की साजिश रचने का आरोप है.

सनसनीखेज धूमनगंज शूटआउट मामले के नौ महीने बीत जाने के बाद और 15.50 लाख रुपये के नकद इनाम की घोषणा के बावजूद, प्रयागराज कमिश्नरेट पुलिस मारे गए गैंगस्टर अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन सहित छह प्रमुख आरोपियों को अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है.

हिंदी पोस्ट वेब डेस्क/आईएएनएस

 


The Hindi Post