ओमिक्रॉन की भारत में दस्तक, कर्नाटक में दो मामलों का पता चला

0
241
प्रतीकात्मक इमेज
The Hindi Post

नई दिल्ली | भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने गुरुवार को यहां कहा कि कर्नाटक में दो व्यक्ति जीनोम सीक्वेंसिंग के बाद ओमिक्रॉन से संक्रमित पाये गये हैं। दोनों मामलों की ट्रैवल हिस्ट्री दक्षिण अफ्रीका की है।

भार्गव ने कहा, “कर्नाटक में स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा स्थापित 37 प्रयोगशालाओं के आईएनएसएसीओजी कंसोर्टियम के जीनोम सीक्वेंसिंग के माध्यम से अब तक ओमिक्रॉन के दो मामलों का पता चला है। हमें घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन जागरूकता जरुरी है।”

विज्ञापन
विज्ञापन

उन्होंने कहा कि नए वैरिएंट से पॉजिटिव आने वाले दोनों के संपर्कों की पहचान कर ली गई है और उनकी निगरानी की जा रही है।

हेल्थ मिनिस्ट्री में जॉइंट सेक्रेटरी, लव अग्रवाल ने कहा, सभी ओमिक्रॉन संबंधित मामलों में अब तक हल्के लक्षण पाए गए हैं। देश और विदेश दोनों में ऐसे सभी मामलों में कोई गंभीर लक्षण नहीं देखे  गए है। डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि वायरस को लेकर अध्ययन किया जा रहा है।

विज्ञापन
विज्ञापन

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने कहा कि दुनिया भर के लगभग 29 देशों ने अब तक ओमिक्रॉन के 373 मामले दर्ज किए हैं।

मौजूदा कोविड स्थिति पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, अग्रवाल ने कहा कि दुनिया भर में मामलों में वृद्धि देखी जा रही है। अकेले यूरोप में पिछले एक सप्ताह में 70 प्रतिशत मामले सामने आए हैं।

आईएएनएस

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post