गुना में पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़, सब इंस्पेक्टर सहित 3 पुलिसकर्मियों की मौत

0
147
The Hindi Post

गुना/भोपाल | मध्य प्रदेश के गुना जिले में बीती रात को बदमाशों और पुलिस जवानों की बीच मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में एक सब इंस्पेक्टर सहित तीन पुलिस कर्मियों की मौत हो गई। इस घटनाक्रम को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आपात बैठक की। इस बैठक में पुलिस और गृह विभाग के आला अधिकारी मौजूद रहे।

घटना के बाद, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बयान भी सामने आया है। उन्होंने कहा कि, “गुना में शिकारियों का मुकाबला करते हुए हमारे पुलिस के जवानों ने शहादत दी है। अपराधियों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई होगी, जो इतिहास में उदाहरण बनेगी। अपराधियों की लगभग पहचान हो गई। जांच चल रही है। पुलिस फोर्स को भेजा गया है। अपराधी किसी भी कीमत पर नहीं बचेंगे।”

उन्होंने आगे कहा कि पुलिस के साथी राजकुमार जाटव, नीरज भार्गव, संतराम को शहीद का दर्जा देकर इनके परिवार को एक-एक करोड़ रुपये सम्मान निधि दी जायेगी।

उन्होंने यह भी कहा कि, “परिवार के एक सदस्य को शासकीय सेवा में लिया जायेगा। पूरे सम्मान के साथ इनका अंतिम संस्कार होगा।”

“घटना के बाद घटनास्थल पर पहुंचने में विलंब करने पर मैंने ग्वालियर के आईजी को तत्काल हटाने का फैसला लिया गया है।”

विज्ञापन
विज्ञापन

दरअसल, पुलिस को सूचना मिली थी कि शिकारियों का एक दल काले हिरन को मार कर ले जा रहा है। इसी सूचना के आधार पर पुलिस मौके पर पहुंची थी। शिकारियों के गैंग ने पुलिस पर हमला कर दिया। घटनास्थल पर हिरणों के कटे हुए सिर मिले है।

इस मामले में राज्य के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया है कि गुना जिले के आरोन थाना क्षेत्र में 7-8 मोटरसाइकिल सवार बदमाशों की सूचना पुलिस को मिली थी। पुलिस ने बदमाशों को चारों तरफ से घेर लिया। जिस पर बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें पुलिस परिवार के जाबांज एसआई राजकुमार जाटव, हवलदार नीलेश भार्गव और सिपाही संतराम की मौत हो गई है।

उन्होंने आगे बताया कि, घटना दुखद और हृदय विदारक है। जिले के पुलिस अधीक्षक और डीजीपी से घटना की जानकारी ली है। अपराधियों के खिलाफ ऐसी सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए है जो नजीर बने।

हिंदी पोस्ट वेब डेस्क

(इनपुट्स: आईएएनएस)

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post