COVID-19: भारत में कोविड-19 के बीए.4, बीए.5 वेरिएंट के पहले मामले की पुष्टि हुई

0
186
फोटो: आईएएनएस (सांकेतिक)
The Hindi Post

नई दिल्ली | भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (इंसाकॉग) – SARS-CoV-2 Genomics Consortium (INSACOG) – ने रविवार को भारत में कोविड-19 के बीए.4 और बीए.5 वेरिएंट के पहले मामले की पुष्टि कर दी। आपको बता दे BA.4 aur BA.5 कोरोना के ओमीक्रॉन वैरिएंट के सब वैरिएंट है।

इंसाकॉग (INSACOG) ने एक बयान में कहा, “तमिलनाडु में 19 साल की एक युवती सार्स-कोव-2 के बीए.4 वेरिएंट से संक्रमित पाई गई है। वह टीके की दोनों खुराक लगवा चुकी है और उसका कोई यात्रा करने का इतिहास भी नहीं है।”

इंसाकॉग (INSACOG) ने कहा की युवती में हलके लक्षण देखने को मिले है।

इंसाकॉग (INSACOG) ने कहा कि इससे पहले, हैदराबाद हवाईअड्डे पर उतरने वाला एक दक्षिण अफ्रीकी यात्री बीए.4 वेरिएंट से संक्रमित पाया गया था।

विज्ञापन
विज्ञापन

इंसाकॉग (INSACOG) के अनुसार, इस बीच तेलंगाना में एक पुरुष बीए.5 वेरिएंट से संक्रमित पाया गया है।

जीनोमिक्स कंसोर्टियम निकाय ने बयान में कहा, “तेलंगाना में 80 वर्षीय एक पुरुष बुजुर्ग बीए.5 वेरिएंट से संक्रमित पाया गए है। रोगी में संक्रमण के हल्के लक्षण दिखे हैं। उनका कोई यात्रा इतिहास नहीं है और वह टीके की दोनों खुराक लगवा चुके है।” इन बुजुर्ग में भी हलके लक्षण देखने को मिले है।

जीनोम अनुक्रमण निकाय ने आगे कहा कि एहतियात के तौर पर बीए.4 और बीए.5 रोगियों का संपर्क ट्रेसिंग ((जो लोग इनके संपर्क में आए हो) किया जा रहा है।

इंसाकॉग ने कहा, बीए.4 और बीए.5 विश्व स्तर पर प्रसारित होने वाले ओमिक्रॉन वेरिएंट के सब-वेरिएंट हैं। ये इस साल की शुरुआत में दक्षिण अफ्रीका में पहले रिपोर्ट किए गए थे और अब कई अन्य देशों से इसके मामले रिपोर्ट किए जा रहे हैं।”

विज्ञापन
विज्ञापन

आईएएनएस

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post