कतर की जेल में क्यों बंद थे भारतीय नौसेना के आठ पूर्व अधिकारी? अब आठ में से सात पूर्व नौसेना कर्मी सकुशल लौट आए है भारत

0
196
एयरपोर्ट से बाहर निकलते पूर्व नौसेना कर्मी (फोटो: आईएएनएस)
The Hindi Post

नई दिल्ली | कतर की अदालत ने भारतीय नौसेना के आठ पूर्व कर्मियों को र‍िहा कर द‍िया है. इनमें से सात लोग भारत लौट आए हैं. इस बात की जानकारी व‍िदेश मंत्रालय (एमईए) ने दी. विदेश मंत्रालय ने नौसेना के पूर्व कर्मियों को र‍िहा करने के कतर अदालत के फैसले का स्वागत किया. कतर की अदालत ने इन पूर्व नौसेना कर्मियों को पहले मौत की सजा सुनाई थी.

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “भारत सरकार दाहरा ग्लोबल कंपनी के लिए काम करने वाले आठ भारतीय नागरिकों की रिहाई का स्वागत करती है. इनमें से आठ में से सात लोग भारत लौट आए हैं. हम इन नागरिकों की रिहाई और घर वापसी को तय करने के लिए कतर के अमीर के फैसले की सराहना करते हैं.”

इससे पहले, कतर और भारत के बीच राजनयिक वार्ता के बाद जेल में बंद भारतीय नौसेना के पूर्व कर्मियों की मौत की सजा को कारावास में बदल दिया गया था.

विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि कतर में कैद आठ पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारियों में से सात भारत लौट आए हैं. आठवें भारतीय को घर लाने की व्यवस्था की जा रही है.

आठ भारतीय नागरिक, जो पहले भारतीय नौसेना के कर्मी थे, को कथित रूप से जासूसी करने के आरोप में अक्टूबर 2022 में कतर में कैद कर लिया गया था. भारतीय नागरिकों को कतर की अदालत ने जासूसी का दोषी माना था, और मौत की सजा सुनाई थी.

विदेश मंत्रालय ने कहा था कि अदालत का फैसला “बेहद चौंकाने वाला” था, और कहा था कि वे भारतीय नौसेना के पूर्व कर्मियों के खिलाफ आरोपों को हटाने के लिए सभी कानूनी विकल्प तलाशेंगे.

इस मामले में पिछले साल एक बड़ा पर‍िवर्तन तब आया था जब कतर की अदालत ने भारत सरकार के हस्तक्षेप के बाद भारतीय नागरिकों की मौत की सजा को कम कर कारावास की सजा में बदल दिया गया.

आईएएनएस

 


The Hindi Post