मंच पर ‘दशरथ’ की मौत, ‘शानदार’ अभिनय के लिए दर्शक बजाते रहे ताली

0
296
प्रतीकात्मक फोटो
The Hindi Post

बिजनौर (उत्तर प्रदेश) | जीवन कभी-कभी कल्पना से भी परे होता है। यह बात साबित होती है राजा दशरथ की भूमिका निभा रहे एक पूर्व ग्राम प्रधान राजेंद्र कश्यप के जीवन से। कश्यप राजा दशरथ की भूमिका निभा रहे थे और वह अपने बेटे राम के लिए 14 साल के वनवास की घोषणा करने के बाद मंच पर गिर गए, तो लोगों को लगा यह उनके शानदार अभिनय का हिस्सा है, और जमकर तालियां बजी। पर यह अभिनय नहीं था, उनकी मौत हो चुकी थी। 62 वर्षीय कश्यप जब दर्शकों के ताली बजाने के बाद भी नहीं उठे, तो उनके सह-कलाकारों को लगा कि कुछ गड़बड़ है।

उन्होंने उन्हें उठाने की कोशिश की और महसूस किया कि वह मर चुके हैं। यह घटना शुक्रवार को हुई।

विज्ञापन
विज्ञापन

रामलीला समिति के अध्यक्ष संजय सिंह गांधी ने कहा, “यह बहुत दुखद हुआ। किसी को एहसास नहीं हुआ कि वास्तव में क्या हुआ था। हर कोई इसे महान अभिनय का हिस्सा मानते हुए तालियां बजाता रहा, हालांकि उन्हें कार्डियक अरेस्ट हुआ था।”

जब तक अन्य कलाकार कश्यप को अस्पताल ले जाते तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

उनके गांव में शोक की लहर दौड़ गई। गांव वालो ने राजेंद्र को पिछले दो दशकों से साल-दर-साल कई रामलीला चरित्रों को निभाते हुए देखा था।

कश्यप के परिवार में उनकी पत्नी, तीन बेटे और दो बेटियां हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

आईएएनएस

हिंदी पोस्ट अब टेलीग्राम (Telegram) और व्हाट्सप्प (WhatsApp) पर है, क्लिक करके ज्वाइन करे


The Hindi Post